Featured आलेख कॉर्पोरेट खेलकूद छत्तीसगढ़ दुर्ग बड़ी खबर बस्तर बिलासपुर ब्यूरोक्रेट्स राजनीति रायपुर सरगुजा 

झीरम नक्सली हमले मे मंत्री लखमा की भूमिका संदिग्ध- डॉ. द्विवेदी, दिया न्यायिक जांच आयोग को शपथ पत्र

BILASPUR: आज बिलासपुर मे झीरम न्यायिक जांच आयोग पहुंच कर वरिष्ठ नेता डॉ शिवनारायण द्विवेदी ने झीरम नक्सली हमले पर किया बड़ा खुलासा उनका सीधा आरोप मंत्री कावासी की झीरम काण्ड में संदिग्ध भूमिका है।

25 मई 2013 को झीरम नक्सली हमले पर डॉ द्विवेदी ने आज हाईकोर्ट में शपथपत्र देकर प्रदेश सरकार के मंत्री कवासी लखमा को घेरा है डॉ द्विवेदी ने कहा की फायरिंग करते समय नक्सली कावासी को पहचान गए थे और जैसे ही कवासी लखमा ने अपना नाम बताया फायरिंग करना बंद कर दिया उसके बाद उन्होने आरोप लगते हुए कहा की नंद कुमार पटेल और उनके बेटे का परिचय देने के बाद दोनों की हत्या कर दी गई और कवासी लखमा को छोड़ दिया गया उन्होंने आगे कहा की सुकमा की रैली के बाद कावासी लखमा सुकमा से केशलूर भी नहीं जाना चाहते थे शहीद नंदकुमार पटेल ने जबरन अपने गाड़ी में बैठाकर कवासी लखमा को केशलूर मे आयोजित रैली मे जाना है कहकर ले जा रहे थे हादसे के वक्त नक्सली केवल कवासी को ही पहचानते थे साथ ही उन्होनें कवासी को आराम से मौकायेवार्दात से जाने दिया।
गौरतलब है की झीरम काण्ड घटना के बाद से ही राज्य का एक एहम मुद्दा रहा है अब घायल प्रत्यक्षदर्शी डॉ द्विवेदी ने ठीक दन्तेवाड़ा चुनाव से ठीक पहले अपना शपथ पत्र देकर राज्य की राजनीति मे सनसनी मचा दी है डॉक्टर द्विवेदी ने आज हाईकोर्ट में न्यायिक जांच आयोग के समक्ष अपना शपथ पत्र प्रस्तूत कर दिया है जिसके बाद राज्य की राजनीति मे भूचाल आना स्वाभविक है।




Share on:

Related posts

Comments are closed.